आप-1

आपके दर्शन
आपसे ज्यादा सार्थक शायद !

आपकी अनुभूति,
अपने आस-पास,
आपके होने से ज्यादा अर्थवान है।

आपके होने से
केवल अनुभूति में
उग जाता है मेरा सूरज !

आपके होने से
दूर अनुभूति से
छिप जाता है
मेरा सूरज !

Leave a Reply