रेतराग

कोसों पसरे मरुस्थल में
जब गूँजती है
किसी ग्वाले की टिचकार

रेत के धोरों से
उठती है रेतराग

और भर लेती है
समूचे आकाश को
अपनी बाहों में।

Leave a Reply