पहाड़-3

अब रात-बेरात
काले अर्धचन्द्र-सा
खड़ा रहता है वह

उसकी गोद में
टिमटिमाता है
कुछ–

बचे हुए पेड़
मायूसी में कहते हैं
यह आग नहीं
बंधुआ रोशनी है
वरना
पहाड़ काला ना होता।

Leave a Reply