बच्चे कामगर

घरों से निकलते हैं
अलस्सुबह
निकाले गयों की तरह
नन्हे मेहनती कामगर बच्चे हाथों में
खिलौनों की जगह
झूलती हैं
बासी रोटी की मैली पोटलियाँ

पैरों को घसीटते
चलते हैं
आबनूसी रंग वाले बच्चे
श्रीकृष्ण के बालसखा
जिनकी आँखों में
तैरती रहती है सदा
कलियादह-सी भयावहता
दिहाड़ी कमाने के बाद
थके-मांदे लौटते हैं वे
घरों को ऎसे
पकड़ कर —
ले जाए जा रहे हों जैसे।

Leave a Reply