मोलाइजे

दक्षिणी अफ़्रीका के युवा कवि मोलाइजे को फाँसी दिए जाने पर

भाई
तुम जीत गए हो
जीत गई है
तुम्हारी निर्भीक कविता

तुम्हारी देह से टकराती
चाबुक की आवाज़
मुक्तिगीत बन गई है
हर खित्ते में शोषित
बिरादर भाई की।

हल्की-सी खरोंच से भी
परेशान होने वाले
अम्मा-बाबा
इस परोसी गई मौत पर
क्रान्ति-गीत दोहराते निकले हैं
जेल से बाहर
जोहान्सबर्ग की गलियों में

आज हर अश्वेत माँ
गर्वित महसूस कर रही है
पोस कर उदर में नवशिशु
हर नवशिशु में
क्रान्ति-विचार की तरह तुम्हें

मोलाइजे भाई
इस बीमार सदी में
जब-जब तानाशाह ने
बम्दूक उठाई है
ईमानदार प्रतिबद्ध कविता
शेर की मानिंद गुर्राई है

तुम जीत गए हो
जीत गई है
तुम्हारी निर्भीक कविता

Leave a Reply