वीर जवान, चल हो तैयार – डी के निवातिया

*वीर जवान, चल हो तैयार*
मातृभूमि कहती भर हुंकार, उठा शीश और सीना तान
चल हो तैयार, वीर जवान, चल हो तैयार, वीर जवान।।
गंगा होगी कब तक मैली,
यमुना कब तक तरसेगी
कितना रोये दिल बेचारा
ये आँखे कब तक बरसेगी
इससे पहले हद हो बर्बरता की
उठा बन्दूक, दुश्मन पर तान,,,,,,,,,।
मातृभूमि कहती भर हुंकार, उठा शीश और सीना तान
चल हो तैयार, वीर जवान, चल हो तैयार, वीर जवान।।
बार बार जो हमसे है हारा
फिर उसने हमे ललकारा
दुश्मन बन बैठा है पड़ोसी
जो शह देता वो भी है दोषी
याद नहीं उन्हें शरीअत अपनी
क्यों भूल गए वो आयत-ऐ-कुरआन।
मातृभूमि कहती भर हुंकार, उठा शीश और सीना तान
चल हो तैयार, वीर जवान, चल हो तैयार, वीर जवान।।
देश की रक्षा धर्म तुम्हारा
बलिदान ही कर्म तुम्हारा
जीना मरना इसकी खातिर
दुश्मन चाहे कितना शातिर
सफल न उसको होने देंगे
जाती रहे चाहे अपनी जान,,,,,,,,,,।
मातृभूमि कहती भर हुंकार, उठा शीश और सीना तान
चल हो तैयार, वीर जवान, चल हो तैयार, वीर जवान।।
आंच धरा पर न आने देना,
शीश हिमालय न झुकने देना,
जिस माटी ने जन्म दिया है,
सम्मान कभी न  घटने देना,
नभ से लेकर भूलोक तक,
ऊचाँ रहे सदा इसका मान,,,,,,,,,।
मातृभूमि कहती भर हुंकार, उठा शीश और सीना तान
चल हो तैयार, वीर जवान, चल हो तैयार, वीर जवान।।
सत्य अहिंसा के हम पुजारी,
जानती बात ये दुनिया सारी,
घर का दूर,हमारा पडोसी पहले,
प्यार में चाहे तो जान भी ले ले,
कोई करेगा हमसे झूठे भी बैर,
मिटा देंगे उसका नामो निशान।
मातृभूमि कहती भर हुंकार, उठा शीश और सीना तान
चल हो तैयार, वीर जवान, चल हो तैयार, वीर जवान।।बार बार की इस नफरत से,
दिल में शोले फ़फ़क उठते है,
कैसे प्रेम पनपेगा दिलों में,
रोज़ लाल तिरंगे में लिपटे है,
जिसको अपना भाई समझा,
आज वही बनकर आया काल,,,,,,,,,,।

 

मातृभूमि कहती भर हुंकार, उठा शीश और सीना तान
चल हो तैयार, वीर जवान, चल हो तैयार, वीर जवान।।

इस चमन को पुरखों  ने
जिगर-ऐ-लहू से सींचा था,
प्राण गँवाकर करोडो ने,
गोरों के हलक से खींचा था
जाया न कुर्बानी होने देंगें
कितना भी देना पड़े बलिदान ।

 

मातृभूमि कहती भर हुंकार, उठा शीश और सीना तान
चल हो तैयार, वीर जवान, चल हो तैयार, वीर जवान।।

!

स्वरचित: डी के निवातिया

6 Comments

  1. Abhishek Rajhans 04/04/2019
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 06/04/2019
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/04/2019
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 06/04/2019
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 06/04/2019
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 06/04/2019

Leave a Reply