घाव तन्हाई का- शिशिर मधुकर

मुहब्बत का सुकूँ सबको कहाँ जीवन में मिलता हैं
चमन पा लेने भर से तो ना उसमें फूल खिलता हैं

उमंगे मर चुकी जिनकी और जहाँ जोश ठण्डा हो
उन्हें अपनों ने तोड़ा है तभी इतनी शिथिलता है

देख लो इस ज़माने में फ़कत आगे बढेगा वो
दिल की दीवार में जिसकी बसी सारी कुटिलता है

मुहब्बत की हवाएं ही सुकूँ बागों को बांटेंगी
बिना इनके चले देखो कोई पत्ता ना हिलता है

घाव तन्हाई का गहरा बना हो जिस जगह मधुकर
लाख कोशिश करो खुद से ही वो थोड़े ही सिलता है

शिशिर मधुकर

6 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 19/03/2019
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/03/2019
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 19/03/2019
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/03/2019
  3. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 19/03/2019
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/03/2019

Leave a Reply