झगड़ा

छोटी – छोटी बात पर

झगड़ा होता जिनमें

सही मायेने में अक्सर

प्यार होता उनमें

 

गैरों से हमें क्या मतलब

वो तो दूर ही रहते हैं

दिल के पास जो रहे अक्सर

उसी को अपना कहते हैं

 

हमें सीखना है अब

प्यारे-प्यारे बच्चों से

प्यार कैसे बांटें अक्सर

इस बारूद भरी दुनिया में

 

हर तरफ कोहराम

हर तरफ तबाही है

प्यारी सी इस दुनिया में अक्सर

मासूमों की बली चढ़ाई है

 

धरती माता हो गईं लाल

अपने पूतों के खून से

कर रहीं चीख पुकार अक्सर

करुणामयी स्वर में

 

ख़त्म हो रहा प्रेम-भाव

इस अंगार भरी दुनिया में

धोखे हैं दुनिया में अक्सर

क्या रखा है झगड़ों में

 

प्यार करो और साथ निभाओ

इस रंगीली दुनिया में

प्यार ही फलता-फूलता है

इस आनंदमई जीवन में

 

छोटी – छोटी बात पर

झगड़ा होता जिनमें

सही मायेने में अक्सर

प्यार होता उनमें

 

देवेश दीक्षित

7982437710

Leave a Reply