दोहा

प्रेम में डूबा क्या करे, फंसा हुआ मंंझधार।

नश्वर सा संसार है, औ महिमा अपरंपार ।।1
                  प्रीत ऐसी लगाई है, प्रिय टेढ़ी-मेढ़ी चाल।
                 प्रीत में दरद मिलें, न मिले मुरारी लाल।।2
पानी ही इस जग में, जो ही प्यास बुझाए।
बिन एक इस बूँद के, कोई न जी पाए।।3
                                  @ सर्वेश कुमार मारुत

Leave a Reply