गीत – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

गीत कोई तो गाया होता
किस्मत को आजमाया होता।
हुनर कोई आपसे सीखे
सबों का दिल बहलाया होता।

सीखकर लोग नाम कमा रहे
महफिल वो अपना जमा रहे।
आप हैं बूढ़े तो क्या हो गया
रंग ऐसा कुछ दिखाया होता।

गीत कोई तो गाया होता

किस्मत को आजमाया होता।

कितना सुंदर नाम था इनका
सबसे अच्छा काम था इनका।
ना जाने क्यों फीके पड़ गये
रंग मंचों पर छाया होता।।

 

गीत कोई तो गाया होता

किस्मत को आजमाया होता।

उनकी मेहनत देखी मैंने
उनसे सब कुछ सीखी मैंने।
इतना क्यों कमजोर पड़ गये
खुशियाँ बटोर लाया होता।

गीत कोई तो गाया होता

किस्मत को आजमाया होता।

3 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 30/01/2019
  2. Sukhmangal Singh Sukhmangal singh 31/01/2019

Leave a Reply