वो यादें…………….

कागज़ की कश्ती बनाके समंदर में उतारा था
हमने भी कभी ज़िंदगी, रईशों-सा गुजारा था,

बर्तन में पानी रख के ,बैठ घंटों उसे निहारा था
फ़लक के चाँद को जब, जमीं पे उतारा था,

न तेरा था न मेरा था हर चीज़ पे हक हमारा था
सीने में मासूम दिल,जब कोरे कागज़ सा हमारा था,

बे-पनाह सी उमंगें थी,कई मंज़िल कई किनारा था
अब तन्हा जी रहे हैं हम,तब महफ़िलों का सहारा था,

………..इंदर भोले नाथ.………..

2 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 23/01/2019

Leave a Reply