नेता जी – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

जिधर देखिये उधर, नेताओं का गरम बाजार है
इधर गठबंधन, उधर एन डी ए की सरकार है।

जुमले बाजी देश में, चल रही अब जोर – शोर से
देखना, कौन बचता है, दाढ़ी में छुपे चोर से।

आदमी अब अंधा नहीं , होशियार बन गया है
वोट देना – लेना जनता का, हथियार बन गया है।

चाहे जितनी लड़ाई करो, आपस में टकराकर
हमें अब कोई भी, ठग नहीं सकता बरगलाकर।

छवि आप अपनी सुधारो, तो हमारे लिए बेहतर है
लड़ाई करना ठीक नहीं, बात ये अटर – पटर है।

बहुत कर लिए सब ड्रामेबाजी, पेट भर के लूटे
अब तो वादा करना छोड़ो, क्यों बनते हो झूटे।

कब तलक आप बात सुनेंगे , ऐसे हुक्मरानों का
कब तक सहते रहेंगे, अपने देश में अपमानों का।

अब हम उनकी ऐसी, मनमानी चलने नहीं देंगे
अपने देश को, गुंड़ा राज में बदलने नहीं देंगे।

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/01/2019
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 23/01/2019

Leave a Reply