मतलब की यारी – शिशिर मधुकर

मुहब्बत ना रखी दिल में फ़कत मतलब की यारी है
ज़िन्दगी किस तरह आखिर तुमने मेरी संवारी है

मेरे सपने सभी टूटे तेरे संग फिर भी रहता हूँ
जिम्मेदारी मुझे अपनी गरज से अब भी प्यारी है

कुछ भी मिलता नहीं जिन से गैर वो तुमको प्यारे है
समझ आता नहीं मुझको तुम्हें कैसी खुमारी है

मेरे दिल में जगह मिलना तो अब मुमकिन नहीं होगा
लाज की ओढ़नी सर से तूने जब से उतारी है

सभी कुछ पास है मेरे मगर फिर भी मैं तन्हा हूँ
ज़िन्दगी देख लो मधुकर सदा किस्मत से हारी है

शिशिर मधुकर

2 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 23/01/2019
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/01/2019

Leave a Reply