ख्वाब उल्फ़त का – शिशिर मधुकर

सोचता खुद की तो ये रिश्ता नहीं जोड़ा होता
सफ़र के बीच यूँ ही तेरा हाथ ना छोड़ा होता

घरोँदा तेरा वो अगर मुझको अजीज ना होता
रुख तूफां का मैंने अपनी तरफ़ ना मोड़ा होता

दर्द सहने के सबक मेरे दिल के हमेशा पास रहे
ख्वाब उल्फ़त का मैंने वरना ना यूँ तोड़ा होता

तेरी उलझन की समझ हर वक्त मेरे दिल में थी
समर में कूदते गर जोश तेरे पास भी थोड़ा होता

अपनी किस्मत से मेरे शिकवे गिले तो वाजिब हैं
राहे उल्फ़त में वरना मधुकर की ना रोड़ा होता

शिशिर मधुकर

2 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 23/01/2019
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/01/2019

Leave a Reply