मछलियाँ

ताल से डरती मछलियाँ
जाल से डरती नहीं हैं

तडफड़ाती यों-
मछेरे लोच पर कुर्बान जाएँ
मुटि्‌ठयों में फिसलतीं
उद्‌दाम बलखाती अदाएँ

स्वाद उनका जान लें सब
साँस भी भरती नहीं है

उछलकर गहराइयों से
कश्तियों पर आ गिरी जो
मौत के आगोश में खुश हैं
सनक तक सिरफिरी जो

जहन्नुम के बगीचे में
घास भी चरती नहीं है

खंड-खंड कड़ाहियों में
यहाँ जाएँ-वहाँ जाएँ
खदबदाती, उबलती हैं
सुर्खरू होकर शिराएँ

शोरबे की ‘प्लेट’ में हैं
तनिक उफ़्फ़ करती नहीं हैं

Leave a Reply