जो भी किया, अच्छा ही किया

तुमने जो किया ,ठीक ही किया
तुमने जो भी समझा ,ठीक ही समझा
बेकार में ही दिल लगाने निकला था मैं
तुमने अक्ल से दिल ठिकाने लगा दिया
होश खो बैठा था ,तुम्हे देख कर
तुमने होशियारी से मुझे होश में ला दिया
जिस मसले को मैं जिक्र नहीं करना चाहता था
तुमने उसे सरेआम कर दिया
महफ़िल तो तुम्हारे लिए सजी थी
फिर भी मुझे बदनाम कर दिया
माँगने निकला था दर्द की दवा
तुमने जहर ए जाम पिला दिया
खैर अच्छा ही किया ,जो भी किया
मुझसे ,तुमने अपना नशा तो उतार दिया-अभिषेक राजहंस

Leave a Reply