चाँद – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

नज़र की बात को , जुबां पे, कभी लाओ जरा
चाँदनी रात हो , फिजाँ को , महकाओ जरा।

छुपे हो, बादलों में क्यों तुम, हमें छोडकर
दिल दे दूँ, मैं तुझको, मुझे आजमाओ जरा।

तारे – सितारे, तुझको ही, सब सजाते हैं
मेरे प्यार को, तुम अब ना, भरमाओ जरा।

तेरी ही चाँदनी में, निखर हम, जाते हैं
चाँद, तुम छुप- छुकके, अब ना शरमाओ जरा।

मस्त, इन फिजाओं में ही, अब मस्त है बिन्दु
छुपे हो क्यों तुम, घुँघट तो, अब हटाओ जरा।

2 Comments

  1. Anurag 10/01/2019
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 11/01/2019

Leave a Reply