प्यार का सलीक़ा ।

उसका गिरेबाँ पकड़ कर उसे, बहुत धमकाया मैंने…!
अपने ही दिल को प्यार का सलीक़ा, समझाया मैंने..!

मार्कण्ड दवे । दिनांकः ०२-०१-२०१९.

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/01/2019
    • Markand Dave Markand Dave 08/01/2019

Leave a Reply