पिंजड़े का परिंदा

1
कौन यहाँ कब तक जिंदा है
हर कोई बस पिंजड़े में बंद परिंदा है
कोई स्वप्न के धागे में उलझ कर
ज़िन्दगी को सीलने चला है
कोई अपनो के सिर पर पैर रख कर
खुद को आगे बढ़ाने चला है
बहुत प्रतिस्पर्धा है भाई साहब
खुशियां किसे रास नहीं आती
तभी तो इन्हें बेचने-ख़रीदने का सिलसिला चल पड़ा है
धरम-जात के नाम पर हर कोई जीतने चला है
इंसानियत को हिमशीतक में छोड़ कर
लहू को इंसान पीने चला है
2
इनकी आत्माओं पर इनका अधिकार कहाँ
ये दारू की बोतल पर बिकने वाली जनता है
जो गूंगी भी हैं और बहरी भी हैं
जीतता भले ही कोई हो चुनावी मौसम में
पर हारते यही हैं
क्योंकि ये धर्म के नाम पर लड़ते है
ये जाति के नाम पर बँटते है
ये शक्तिहीन शक्तिमान है
या अपनी शक्ति को भूले हनुमान है
इनकी गरीबी और लाचारी जायज है
क्योकि अगर ये खत्म हो जाएगी
तो ये पिंजड़े से उड़ जायेंगे
इनका पिंजड़े में रहना ही अच्छा है —अभिषेक राजहंस

10 Comments

    • Abhishek Rajhans 10/01/2019
  1. Gopal Thakur 03/01/2019
    • Abhishek Rajhans 10/01/2019
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 04/01/2019
    • Abhishek Rajhans 10/01/2019
  3. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 04/01/2019
    • Abhishek Rajhans 10/01/2019
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/01/2019
    • Abhishek Rajhans 10/01/2019

Leave a Reply