फिर से उड़ान लो -शिशिर मधुकर

तुमको पुकारता है दिल तुम अब ये जान लो
आवाज़ धड़कनों में छुपी आओ पहचान लो

दो जिस्मों की नहीं बात ये रूहों का साथ है
इस सच को ज़िंदगी के सुनो तुम भी मान लो

दूरी बनी जो बीच में उसको मिटा दो आज
मुश्किल नहीं है काम कोई गर तुम ठान लो

देखो ये वक्त तो यूँ ही चलता ही जाएगा
जाया करो ना इसको तुम फिर से उड़ान लो

जीता किए वो ही समर शिद्दत से जो लड़े
मधुकर कहे हाथों में तुम फिर से कमान लो

शिशिर मधुकर

4 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 27/12/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/12/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 29/12/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/12/2018

Leave a Reply