बच्चों का हक (CHILD’s RIGHTS)

दुनिया की सच्चाई समेट, कैसी बातें ये हम लिखते
खुशी मिले जिनके हिस्से, उनके हिस्से में गम दिखते

जब घर के अंधियारों तले, वे उजियारे से बेखबर मिली
छोटी नन्ही जान जब मुझको, बोझ के नीचे दबी मिली

सूरज से पहले उठती है, और सूरज के बाद ही सोती है
कंधों पर घर का बोझ लिये, अपना बचपन वो खोती है

खेल-खिलौने, गुड़िया, झूला, स्कूल, माँ की लोरी
ये सब क्या होता भईया, नन्ही जान मुझसे बोली

सन्न पड़ गया बात से उसकी, कैसी ये इसकी हालत है
अंदर से जो खोखला पड़ा, ऐसे इक देश की मानक है

पेट भरने को एक रास्ता, नन्ही जान की मजदूरी है
नन्हे फूलों की शादी करने को, घर की तैयारी पूरी है

रीति-रिवाज पुराने वालो की, ये जानकारी अधूरी है
नन्ही जान की क्या गलती, ये तो इनकी मजबूरी है

पानी सिर से ऊपर निकले, पहले ही कदम उठाने होंगे
नन्ही जान का हित हो जिसमें, ऐसे बदलाव लाने होंगे

उभरता हिंदुस्तान मिले, सच मे बदलता ख्वाब मिले
नन्ही जान के हाथों में अब, बोझ नही किताब मिले

 

कवि – मनुराज वार्ष्णेय

4 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 24/12/2018
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 24/12/2018

Leave a Reply