मुकद्दर का सिकंदर – शिशिर मधुकर

जो तेरे हुस्न का, बस एक यहाँ, दीदार हो जाए
हर एक इंसान को, केवल तुझी से, प्यार हो जाए

मुकद्दर का सिकंदर, दिल की दुनिया, में बनेगा वो
जिसका सजदा, तेरे दरबार में, स्वीकार हो जाए

अगर तू मुस्कुरा कर के, निशानी कोई, मुझे दे दे
तेरी हर चीज़ पे, मेरा तो फिर, अधिकार हो जाए

तू अगर सामने हो तो, असर कुछ, इस तरह होगा
एक मिरासी भी, छोटा सा, बड़ा फनकार हो जाए

तू ही कह दे, बता अब क्या करे, मधुकर यहाँ ऐसा
जिससे उसकी मुहब्बत पे, तुझको, ऐतबार हो जाए

शिशिर मधुकर

4 Comments

  1. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 20/12/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/12/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 20/12/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/12/2018

Leave a Reply