य़ूं हमेशा के जैसी वही धूप है

य़ूं हमेशा के जैसी वही धूप है ,
लग रही आजकल कुछ नयी धूप है .
झॆलकर शीत की सर्द तीखी चुभन ,
लग रही है बहुत डर गयी धूप है .
तट पे सागर के बेसुध है लेटी हुई ,
आजकल अनमनी , आलसी धूप है .
हम सरेआम जिससे लिपटकर मिले ,
ये वही गुनगुनी , मखमली धूप है .
इसका कोई भरोसा नहीं कीजिए ,
यार ये मतलबी , मौसमी धूप है .

Leave a Reply