ग़ज़ल – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

अपने मखमली ख्वाब , ये ख्याल छोड़ दो
उनके जिगर में उतरने का मलाल छोड़ दो।

कोशिशें तेरी, सारे नापाक हो जायेंगे
अपनी हरकतें ये बेरूखी चाल छोड़ दो ।

ज़िद करनी, किसी को कभी रास नहीं आती
अपने ख्यालों में बुनना ये जाल छोड़ दो ।

किसी का दिल जीत लेना, एक अलग बात है
जिगर में उतर जाने का जंजाल छोड़ दो।

बस की बात नहीं अब, प्यार को समझ लेना
कसक बहुत है, झमेला ये बवाल छोड़ दो ।

3 Comments

  1. SALIM RAZA REWA SALIM RAZA REWA 13/12/2018
  2. sarvajit singh sarvajit singh 13/12/2018
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 14/12/2018

Leave a Reply