ग़ज़ल – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

मुझे बेच दो दूसरे के हाथ , ये मंजूर नहीं
मैं झुका हुआ जरूर हूँ, इतना मजबूर नहीं।

मुझे मेरे हाल पर यूँ, तड़पने के लिए छोड़ दो
मुझे मालूम है , मैं आपके जैसा मशहूर नहीं।

तिश्नगी में तड़प – तड़प कर, जान हम भी दे देंगे
इस दस्तूर के लिये, हमारा कोई कसूर नहीं।

हम तो चाहते थे भला , अपने जमाने के लिये
जालिमों ने रौंद डाला, मैं इतना मगरूर नहीं।

कलेजा अपना ‘बिन्दु’, पहाड़ पत्थर का रखता है
शिकस्त दे दे कोई भी , ऐसा अब दस्तूर नहीं।

3 Comments

  1. SALIM RAZA REWA SALIM RAZA REWA 13/12/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 14/12/2018
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 14/12/2018

Leave a Reply