— भावना —

भावों के कोरे कागज पर
सूख गये है नयनों के रंग
भावनाओं के उड़ते पाखी
सतरंगी पाँखों से आखर
आकर कब लिख जाओगे ?

जी भर भाव बरसे आंगन
भीग न पाया अन्तर्मन
मौन पड़ी है अन्त:स वीणा
भीगे सुर सा भाव संवेदन
किन तारों पे गाओगे ?

मृदु भावना की अनगिन लहरें
मन के सागर में उफनती
भीगे सुर से भाव संवेदन मे
स्वर लहरी के बन्द दरवाज़े
क्या तुम खोल पाओगे ?

आ जाओ तो स्वप्न लोक में
दोनों ही भर लें उड़ान
होगी भाव भृगिंमा झँकृत
व्याकुल मन मे प्रेम पहचान
कब तक तुम ठुकराओगे
अब तो लौट के आओगे….

कपिल जैन

8 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 12/12/2018
    • कपिल जैन कपिल जैन 12/12/2018
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 12/12/2018
    • कपिल जैन कपिल जैन 12/12/2018
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/12/2018
    • कपिल जैन कपिल जैन 12/12/2018
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/12/2018
    • कपिल जैन कपिल जैन 12/12/2018

Leave a Reply