क्यों ?

क्यों लिखूं, क्यों कर लिखूं, किस के लिए लिखुं?
लफ़्ज़ रोते हैं, मेरे क़लम उठाते ही..!

मार्कण्ड दवे । दिनांकः २९-११-२०१८.

2 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 01/12/2018
    • Markand Dave Markand Dave 04/12/2018

Leave a Reply