साथ और विश्वास – शिशिर मधुकर

अगर तूने मुझे आगोश में अपने लिया होता
तेरी आँखों का जाम झूम कर मैंने पिया होता

काश तुम माँग लेते हाथ मेरा चल पड़े थे जब
मैंने सब धड़कनों को नाम बस तेरे किया होता

मुहब्बत मिल गई होती अगर मुझको फ़कत तेरी
बड़ी मुद्दत से प्यासा फिर तो ना मेरा जिया होता

हर एक इंसान को हरदम यहाँ लालच ने मारा है
वरना ये हाथ मैंने बस हाथ में तेरे दिया होता

जवानी माँगती है साथ और विश्वास ही मधुकर
जो दोनों मिल गए होते तो ना टूटा हिया होता

शिशिर मधुकर

7 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 27/11/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/11/2018
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 27/11/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/11/2018
  3. Ram Gopal Sankhla रामगोपाल सांखला ``गोपी`` 27/11/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/11/2018
  4. Ram Kishor Dubey 04/12/2018

Leave a Reply