ये इश्क़ है (Ye ishq hai)

ये इश्क़ है

तू घायल हो या मुर्दा ये तुझे जगा देगा
ये इश्क़ है ,तुझे क्या तेरी रूह तक को मिटा देगा

द्वारा – मोहित सिंह चाहर ‘हित’

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 27/11/2018
    • hitishere hitishere 27/11/2018

Leave a Reply