तलाश – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

खुद की तलाश में भटकता रहा
दुश्मनी के कारण अटकता रहा।

कभी मैं सूली पर लटक गया
कभी खौफ में सिमटता रहा।

खुदगर्ज क्या रास्ता दिखायेंगे
कभी गिरा कभी संभलता रहा।

जुनून इक जिद है अपने मन की
जो लटक गया सो लटकता रहा।

धोखे बहुत खाये फरेबों से
वक्त पे आदमी बदलता रहा ।

इंसान है क्या मैं समझने लगा
उनके बीच रहके निखरता रहा।

जीने के रास्ते बिन्दु मिल गये
ठोकरें खाकर संभलता रहा।

3 Comments

  1. Sukhmangal Singh Sukhmangal singh 12/11/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 12/11/2018
  3. mani mani 14/11/2018

Leave a Reply