गुज़र गयें…

कुछ आरज़ू मुक़म्मल हुए,हज़ारों सपने बिखर गयें…
हम मैं (खुदी) की तलाश में इक वक़्त सा गुज़र गयें…

Leave a Reply