बसर रहे…

अब दिल की ख्वाहिश है यही,के ज़ारी यूँ सफ़र रहे…
सुकूं न मिले इक पल का भी,ज़िन्दगी यूँ बसर रहे…

One Response

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 05/11/2018

Leave a Reply