रुह से

बिखरी हुई रोशनाई से
लिखने का हुनर जानता है
एक शक्स है शहर में
जो रुह से मुझे पहचानता है

राकेश कुमार

3 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 01/11/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 01/11/2018
  3. rakesh kumar Rakesh kumar 03/11/2018

Leave a Reply