सैलाब की नीयत – शिशिर मधुकर

मैं तन्हा हूँ राह साथी की जाने कब से तकता हूँ
फना होती हैं उम्मीदें ग़म का मारा सा थकता हूँ

मेरी आँखों में आंसू तो नज़र ना आएंगे तुमको
हर पल मैं अपने मन के अन्दर ही सुबकता हूँ

मुझे तो ना मिली है रोशनी चमकीले सूरज की
खुद ही की आग से जैसा भी हूँ वैसा दमकता हूँ

तोड़नी बँदेशें साहिल की तो मुझको भी आती हैं
मगर सैलाब की नीयत से डर मैं भी हिचकता हूँ

तेरी उल्फ़त की सच्चाई पता लग जाएगी मधुकर
पूछ ले आईने से क्या मैं अंखियॊं में झलकता हूँ

शिशिर मधुकर

4 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 18/10/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/10/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 20/10/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/10/2018

Leave a Reply