अमर गाथा – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

जिसने गीता कुरआन लिखा है
रामायण का गुणगान लिखा है।

बाइबिल – गुरुग्रंथ इतना प्यारा
कृष्ण लीला रसखान लिखा है।

डूबे तुलसी बाल्मीकि डूबे
भक्त हरि का सम्मान लिखा है।

रवि – कबीर – काली – मीरा जैसे
भक्ति में अपना पहचान लिखा है।

दोहे – छंद – चौपाई – मुक्तक में
प्रकाश पुंज की ज्ञान लिखा है।

गाथा अमर लिख वह अमर हो गये
ऐसा इतिहास वरदान लिखा है।

सन्मार्ग जो है हमें दिखाया
मानस का ऐसा प्राण लिखा है।

धर्म – संस्कृति – समाज बनाया
ऐसा अपना अनुदान लिखा है।

कर्म का नीति वह हमें सिखाया
जानो यह खुद भगवान लिखा है।

One Response

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 20/10/2018

Leave a Reply