कातिल ये बहरे हैं – शिशिर मधुकर

भुला दो तुम मुझे चारों तरफ़ बैरी के पहरे हैं
रोशनी अब नहीं दिखती अंधेरे इतने गहरे हैं

संभालो मत ना उठने दो तूफां को समुन्दर में
लील जाएंगे सारी ज़िंदगी कातिल ये बहरे हैं

तुम अपनी बात करते हो ज़रा मेरी तरफ़ देखो
मेरे अल्फाज तो अब भी मेरे अधरों पे ठहरे हैं

सच्चाई और होती है समझ में आ गया मुझको
स्वपन ही दूर से सबको यहाँ लगते सुनहरे हैं

मुकद्दर साथ ना दे तो विफल होती हैं तदबीरें
मधुकर से मुहब्बत में कभी परचम ना फहरे हैं

शिशिर मधुकर

4 Comments

  1. Arun Kant Shukla Arun Kant Shukla 14/10/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 15/10/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 15/10/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 15/10/2018

Leave a Reply