परिभाषा अपंग की..

क्या हुआ गर मैं चल नहीं सकता,
चलती है मेरी सांस,
मेरा हर एहसास चलता है,
हैं बहुत बातें ऐसी
जिन पर मेरा दिल भी दौड़ता-उछलता है…

मेरी आँखों मैं रौशनी नहीं,
पर मैं बहुत कुछ देख सकता हूँ,
मेरे प्रति तुम्हारा ‘अलग’ बर्ताव भी,
तुम्हारी आँखों से झांकता ‘दया’ का भाव भी..

जिसके एहसास बेजान, वो तुम..
जो बुराई देख कर मूक, वो तुम..
वो तुम जो लालच में अँधा,
फिर अपंग मैं हुआ या तुम?

16 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 12/10/2018
  2. Garima Mishra Garima Mishra 12/10/2018
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/10/2018
    • Garima Mishra Garima Mishra 12/10/2018
  4. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 12/10/2018
    • Garima Mishra Garima Mishra 16/10/2018
    • Garima Mishra Garima Mishra 16/10/2018
  5. Abhishek Rajhans 12/10/2018
    • Garima Mishra Garima Mishra 16/10/2018
  6. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 16/10/2018
    • Garima Mishra Garima Mishra 06/11/2018
  7. Madhu tiwari Madhu tiwari 17/10/2018
    • Garima Mishra Garima Mishra 06/11/2018
    • Garima Mishra Garima Mishra 06/11/2018
  8. Rinki Raut Rinki Raut 22/10/2018
    • Garima Mishra Garima Mishra 06/11/2018

Leave a Reply