ज़िन्दगी – Bhawana kumari

    कौन कौन से रंग
    दिखलाती है ज़िन्दगी
    कभी धक्कों से भरी
    कभी खुशी कभी ग़म
    कभी दर्द से भरी है ज़िन्दगी
    कभी दो वक्त की रोटी के लिए
    मोहताज रहती है ज़िन्दगी
    कभी संघर्षों और इम्तिहान
    से भरी है ज़िन्दगी
    कभी परेशानियों से
    भरी रात है ज़िन्दगी
    कभी खुशियों की
    बौछाड़ है ज़िन्दगी
    तो कभी गमों की
    बरसात है ज़िन्दगी
    किसी के लिए
    बिंदास है ज़िन्दगी
    तो किसी के लिए
    पथरीली राह है ज़िन्दगी
    कभी किसी को हंसाती
    कभी किसी को रुलाती ज़िन्दगी
    पर इन से बढ़कर
    मौत पर खत्म होने वाली
    सच्ची कहानी है ज़िन्दगी

    भावना कुमारी

6 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 12/10/2018
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 12/10/2018
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/10/2018
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 12/10/2018
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 17/10/2018
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 19/10/2018

Leave a Reply