कैप्सूल – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

फायदा थोड़ा भी नहीं, न ज्यादा नुकसान करेगा
सत्तू आटे की बनी कैप्सूल, न कोई पहचान करेगा।

दवा के नाम पर, आज भी लूट अभी तक जारी है
लोग सभी जानते, इसमें लिप्त बड़े व्यापारी है।

नकली असली का भला, पहचान अब कौन कैसे करे
इंसान पैसों पर बिक जाता, फिर ध्यान कैसे करे।

जहाँ भी आप जाइये, उलझ कर ही रह जाईयेगा
दलदल इतनी है हर जगह, फंस कर बह जाईयेगा।

दवा – दारू – कचहरी – नेता, पुलिस भी पाजी निकले
चल रहा इसी तरह से देश, सब काम काजी निकले।

कोई लूट रहा देश को, कोई डाल रहे डाका
कहीं पे सीना जोरी है, कहीं पर घूम रहे आका।

हर अपराधी घूम रहे, देख आँखें लोग मूंद रहे
हर डाल चमगादड़ झूल रहा, अपना शिकार ढ़ूढ रहा।

अपने लोग लुटेरे हैं, दूसरे को फिर है क्या कहना
यहाँ आश्वासन भाषन है, दूभर गरीबों का रहना।

अंध विश्वास का बोल बाला, मस्त ऐसे में मतवाला
राम रहीम संग मधुबाला, आशा राम संग है बाला।

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 10/10/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 11/10/2018

Leave a Reply