बाजी लगी प्रेम की-4

जब बरबस ही रसधार बहे
जब निराधार ही चढ़े बेल
बिन बादर की जब झड़ी लगे
बिन जल के हंसा करे केलि
तब जानो वह पल आन पड़ा
जिस पल अपलक रह जाना है
अब मिलना और बिछुड़ना क्या
भर अंक में अंक समाना है…
और आँख खुली रह जाना है।

Leave a Reply