बाजी लगी प्रेम की-3

न तर्क न प्रमाण
तुम्हारी आभा में
तो जो है सभी कुछ
टिका है प्रतीक्षा के मौन में…
जब टूटता है मौन तनी प्रत्यंचा-सा
हनाहन बाण लगते हैं हृदय पर
शब्द चुप हैं, अभी तो
बहुत गहरी नींद से तुम जागने को हो
तुम्हारी पलक काँपी है अभी तो…

Leave a Reply