कह दू…..””””””””””””’,,”””””””सविता वर्मा

तेरे एहसास की दौलत लेकर धनी हूँ मैं
इन्हीं सतरंगी तेरे यादों से ही सनी हूँ मैं
कहते हो, बडी़ खूबसूरत है तेरी आहट
बिना तेरे एहसास, खुद को भी खली हूँ मैं….
खुद को भी खली हूँ मैं….

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 03/10/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 04/10/2018

Leave a Reply