मुहब्बत गर जहन में हो – शिशिर मधुकर

मुहब्बत गर जहन में हो बयां बातों से होती है
चमक दीए की कैसी है परख रातों से होती है

जमीं ने पेड़ को सींचा है मन से या नहीँ सींचा
ज़माने को ख़बर इस बात की पातों से होती है

हर एक आदमी खुद को यहाँ अच्छा समझता है
इसकी पहचान जीवन में मगर नातों से होती है

उसे दुश्मन फ़कत अपना मैंने यूँ ही नहीं समझा
मुझे पीड़ा बड़ी गहरी उसके घातों से होती है

भले पहली नज़र में कोई आँखों में ही बस जाए
मुहब्बत तो जवांं मधुकर मुलाकातों से होती है

शिशिर मधुकर

2 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 04/10/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/10/2018

Leave a Reply