देश प्रेम के दोहे – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

सच्चे प्रेमी देश के, हम सब जो भी लोग
रहते डूबे भक्ति में, तनिक न करते लोभ।

सच्चे सैनिक देश के, रख लेते हैं मान
पूजा उनकी है रक्षा , करते हैं सम्मान।

मर जाते हैं शान से, देकर अपनी जान
देर नहीं करते कभी, रख झंडे की मान।

सीख लिया इतिहास से, देश प्रेम की राग
भर आता उल्लास से, भक्ति भाव अनुराग।

एकता लाओ देश में, अलख जगाओ आज
शक्ति भर दो जनहित   में, है उत्तम ये काज।

2 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 29/09/2018
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 29/09/2018

Leave a Reply