नज़ारा – डी के निवातिया

नज़ारा

***

कुछ इस तरह मुझ से किनारा कर लिया !
मेरे अपनों ने घर-बसर न्यारा कर लिया !!

समझता रहा जिन्हे ताउम्र मै खुद का हमदर्द !
फूलों से ज़ज़्बातों को उन्होंने अँगारा कर लिया !!

देखता हूँ नज़रे उठाकर तो ज़माना हँसता है !
जब से उन्होंने मेरी और इशारा कर लिया !!

अब करुँ भी उम्मीद फ़तह की, तो कैसे करूँ !
अपनों ने साथ दुश्मनो का गँवारा कर लिया !!

नहीं रही चाहत अब “धर्म” को किसी हित की !
जब आँखों में उनकी बैर का नज़ारा कर लिया !!
!
!
!
डी के निवातिया

4 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 26/09/2018
  2. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 29/09/2018
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/09/2018
  4. Saviakna Saviakna 30/09/2018

Leave a Reply