गज़ल तुमको क्या समझाऊं – शिशिर मधुकर

ग़ज़ल तुमको क्या समझाऊं मैं तो जज्बात कहता हूँ
मुहब्बत जिसने भी दी मुझको उन्हीं के साथ रहता हूँ

सोच शब्दों में आती है कलम फिर चलती ही जाती है
बँध के साहिल की बाहों में फ़कत पानी सा बहता हूँ

उनके अल्फाज ही मेरी गहरी चोटों का मरहम हैं
सहारे जिन के ले लेकर मैं तन्हा सब दर्द सहता हूँ

दूर से देखने वाले ना समझ पाएंगे कभी मुझको
दिखता पाषाण सा बाहर मैं तो भीतर से ढहता हूँ

ग़ज़ल लिखनी है गर तुमको तो मन की कहो बातें
हर सीखने वाले से बस यही तरकीब मैं कहता हूँ

शिशिर मधुकर

6 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 04/10/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/10/2018
  2. arun kumar jha arun kumar jha 04/10/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/10/2018
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 05/10/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/10/2018

Leave a Reply