मशहूर ना रहते – शिशिर मधुकर

गर मेरी तरह तुम भी तड़पते फिर दूर ना रहते
भुला सब कुछ नशे में ज़िन्दगी के चूर ना रहते

अगर तुम ठान लेते साथ मुझको भी निभाना है
किसी भी हाल में फिर तुम यहाँ मज़बूर ना रहते

खता मेरी ही थी जो तुमको इंसा की तरह चाहा
मेरी नज़रों में वरना बन के कभी तुम नूर ना रहते

ये सच है इस घड़ी कुदरत ने मेरा हाथ छोड़ा है
वरना तुम आज भी इतना यहाँ मगरूर ना रहते

ज़रा आँखों को तुम मीँचो और तन्हाई में सोचो
बिना मधुकर के तुम इतने यहाँ मशहूर ना रहते

शिशिर मधुकर

6 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 26/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/09/2018
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 27/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/09/2018
  3. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 29/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/09/2018

Leave a Reply