तुम्हारी अदा – डी के निवातिया

तुम्हारी अदा
***
इतना प्यार करते हो, कभी न जताते हो तुम
यदा कदा ही सही मगर, बहुत सतातें हो तुम
कैसे न जां निसार करें हम तुम्हारी अदाओं पे
बेवजह भी रूठें तो शिद्दत से मनातें हो तुम !!
!
डी के निवातिया

3 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 24/09/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/09/2018
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/09/2018

Leave a Reply