छंद – (कुण्डलियाँ) – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

नहीं चाहिये प्रीत अब, नहीं चाहिये मीत
इज्जत अपनी बेचकर, नहीं चाहिये जीत।
नहीं चाहिये जीत, दुनिया अंधी हो गयी
कैसे यह सब रीत , इतनी गंदी हो गयी।
भ्रमित माया जाल, सुकून दिखती ही नही
ढ़ूढ रहा सुख – चैन, मन मैला मिटता नही।

One Response

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 20/09/2018