भ्रम

उसने चाय में नमक डाला था फ़िर भी मीठी लगी …
मालिक ये कैसा तिलिस्म है,ये कैसी माया है ,
उसके हाथो दिया हुआ आब भी शराब लगता है ,
और हम चुस्कियाँ ले ले के पिया करते है ।

7 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 16/09/2018
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 16/09/2018
  3. Vikram jajbaati Vikram jajbaati 17/09/2018
  4. Rinki Raut Rinki Raut 17/09/2018
    • Vikram jajbaati Vikram jajbaati 18/09/2018
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 17/09/2018
    • Vikram jajbaati Vikram jajbaati 18/09/2018

Leave a Reply